औरंगजेब ने जबरन कराया था कश्मीरी पंडितों का धर्म परिवर्तन- योगी आदित्यनाथ


मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने क्रूर मुग़ल शासक औरंगजेब को लेकर बड़ा बयान दिया है। बुधवार (27 जून) को एक कार्यक्रम में बोलते हुए योगी आदित्यनाथ ने कहा, औरंगजेब ने कश्मीरी पंडितों को यातनाएं दी और उनका जबरन धर्म परिवर्तन कराया। कश्मीरी पंडितों के एक समूह ने दिल्ली में गुरु तेग बहादुर से मुलाकात की। मुलाकात में कश्मीरी पंडितों ने बताया कि किस तरह उनका जबरन धर्म परिवर्तित किया जा रहा है।

दरअसल बुधवार को लखनऊ के ईको गार्डन में नायक बंजारा समाज की विशाल महारैली में सीएम योगी आदित्यनाथ शामिल हुए थे। यहां समुदाय विशेष को संबोधित करते हुए योगी ने कहा, ‘जब औरंगजेब का कश्मीरी पंडितों पर अत्याचार शुरू हुआ, तब कश्मीरी पंडितों का एक समूह गुरु तेग बहादुर के पास दिल्ली आया था और उनके सामने अपनी पीड़ा बताई थी।

यह भी पढ़ें: ऐसी रानी जिसके सामने अकबर की फौज ने टेक दिए थे घुटने

उन्होंने बताया कि जबर्दस्ती हमारा धर्मान्तरण हो रहा है, हमें दबाया जा रहा है और हमें अपमानित किया जा रहा है।’ योगी आदित्यनाथ ने आगे कहा, ‘उस समय गुरु तेग बहादुर ने कहा था कि औरंगजेब के किसी दबाव में आने की जरूरत नहीं है। उनसे दो टूक कहने की आवश्यकता है कि अगर हमारे गुरु आपकी बात को स्वीकार कर लेंगे तो हम भी मान लेंगे।

योगी आदित्यनाथ ने दावा किया है कि धर्म परिवर्तन के लिए दवाब बनाने के लिए औरंगजेब ने गुरु तेजबहादुर को गिरफ्तार कर लिया था और उन्हें प्रताड़ित भी किया. काफी दिनों तक गुरु तेजबहादुर को प्रताड़ित करने के बाद भी उन्होंने धर्म बदलना स्वीकार नहीं किया. गुरु तेजबहादुर के धर्म ना बदलने की जिद पर जब अड़े रहे तो औरंगजेब को हार स्वीकार करनी पड़ी।

यह भी पढ़ें: सामूहिक दुष्कर्म मामला: फादर ने रेप करने के लिए आरोपियों को सौंप दी 5 लड़कियां

योगी आदित्यनाथ ने इससे पहले महाराणा प्रताप की 477वीं जयंती पर एक कार्यक्रम में कहा था कि जो जाति या कौम अपने इतिहास को ना संजोये वह भूगोल को सुरक्षित नहीं रख सकता। योगी ने यह भी कहा था कि अकबर, औरंगजेब और बाबर की पहचान केवल विदेशी आक्रांता के तौर पर होगी। भारत का नौजवान महाराणा प्रताप, शिवाजी, गुरु गोविंद सिंह बन जाए तो हमें ISIS या किसी से भी डरने की जरूरत नहीं है।