इस बर्खास्त IPS ने माता सीता और हनुमान को लेकर कही ये बात, लोगों ने जमकर लताड़ा


गुजरात के बर्खास्त आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट एक बार फिर विवाद में पड़ गए हैं। इस बार भट्ट ने हनुमान जी बहुचर्चित तस्वीर पोस्ट करते हुए एक टिप्पणी की। इसके बाद उनके ट्विटर अकाउंट पर लोगों ने उन्हें जमकर लताड़ लगाई। हालांकि भट्ट ने इसके बाद फिर जवाब देते हुए कहा कि ट्रोलर्स की बातों से उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता।

आपको बता दें संजीव भट्ट ने हनुमान जी की एक तस्वीर पोस्ट करते हुए ट्विटर पर लिखा कि, क्या सीता इन हनुमान के साथ अपने आप को सुरक्षित महसूस करतीं। भट्ट के इस ट्वीट के बाद लोगों ने उन्हें ट्रोल करते हुए खूब खरी खोटी सुनाई।

ट्विटर पर कई यूजर ने कहा, एक मां अपने पुत्र के साथ हमेशा सुरक्षित महसूस करती है। वहीं कुछ यूजर्स ने संजीव भट्ट के खिलाफ कठोर कानूरी कार्रवाई की मांग की। एक यूजर ने लिखा कि लंका का क़िला भेद कर सीता माता को सुरक्षित महसूस कराने के लिए ‘इसी हनुमान’ की ज़रूरत थी। सीताजी ने कैसा महसूस किया, ये ट्विटर पर नहीं, रामायण पढ़ कर या उसकी TV सीरीज़ देख कर पता चलेगा। हनुमानजी का ये रौद्र रूप रावण जैसे राक्षसों को डराने के लिए था। आपको डर क्यों लग रहा है?

यह भी पढ़ें: देश के हर जिले में शरीयत कोर्ट का गठन करेगा मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड, 15 जुलाई को पेश होगा प्रस्ताव

इसके बाद संजीव भट्ट ने यूजर्स को जवाब देते हुए लिखा कि, उन्हें ऐसी बातों से कोई फर्क नहीं पड़ता। इसलिए वह किसी का जवाब नहीं दे रहे।

बता दें कि संजीव भट्ट गुजरात कैडर के 1988 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं। 2011 में वह निलंबित कर दिए गए थे। वह अक्सर मोदी सरकार के खिलाफ अपने ट्वीट के कारण चर्चा में रहते हैं। उन्हें 2015 में फिर बर्खास्त कर दिया गया था।