केरल में कैथलिक चर्च के बिशप ने चार साल तक किया नन का बलात्कार, केस दर्ज


केरल में एक नन ने जालंधर के डायोसीस कैथलिक चर्च के बिशप के खिलाफ बलात्कार का केस दर्ज करबाया है। नन ने आरोप लगाया है कि बिशप ने उसके साथ 2014 के बाद 14 बार उसके साथ बलात्कार किया। पीड़ित नन ने यह भी आरोप है कि साइरो-मालाबार कैथलिक चर्च से बिशप फ्रैंको मुलक्कल के खिलाफ शिकायत की गई तो चर्च ने इस पर कोई कार्रवाई नहीं की।

यह भी पढ़ें: मध्यप्रदेश: जबरन धर्मांतरण के आरोप में 30 पादरी गिरफ्तार, थाने में आगजनी

वही दूसरी तरफ बिशप ने खुद पर बलात्कार का केस दर्ज होने के बाद नन के खिलाफ एक जवाबी शिकायत दर्ज कराई है और आरोप लगाया है कि उसका तबादला करने की वजह से ही वह बदला ले रही हैं।

यह भी पढ़ें:लव जिहाद की शिकार नेशनल शूटर तारा शाहदेव को रंजीत उर्फ़ रकीबुल से मिला तलाक, बोली अब मैं भी सिंगल

पुलिस उपाधीक्षक ने दोनों तरफ से शिकायत मिलने पर जांच करने के निर्देश दिए है। उधर कोट्टायम पुलिस अधीक्षक को की गई शिकायत में नन ने आरोप लगाया है कि उसका 14 बार यौन यौन उत्पीड़न किया गया है। नन ने मुताबिक 2014 में जिले के कुरावलंगद क्षेत्र में एक अनाथालय के नजदीक एक गेस्ट हाउस में पहली बार उससे रेप किया गया।

यह भी पढ़ें: आर्कबिशप ने कहा खतरे में भारत की धर्मनिरपेक्षता, चिट्ठी में की दोबारा मोदी सरकार ना बनने की प्रार्थना

आपको बता दें रेप की शिकार नन पंजाब में डायोसीस कैथलिक चर्च के तहत चलने वाले एक संस्थान में काम करती थीं। इस संस्थान का कर्ता धर्ता 54 साल का बिशप फ्रैंको मुलक्कल है। नन से जुड़े करीबी सूत्रों के मुताबिक, उसने केरल के तत्कालीन चर्च प्रमुख कार्डिनल मार जॉर्ज अलेनचेरी से इसकी शिकायत की थी, लेकिन चर्च की तरफ से कोई कदम नहीं उठाए जाने पर उसे पुलिस में शिकायत दर्ज करानी पड़ी।