अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के प्रोफ़ेसर ने नहीं माना SC का फैसला, पत्नी को व्हाट्सप्प से दिया तलाक


सुप्रीम कोर्ट के तीन तलाक के खिलाफ फैसला सुनाने के दो महीने बाद भी लगातार ट्रिपल तलाक के मामले सामने आ रहे हैं। हाल ही मामला जो सामने आया है वो है अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी का है, जहाँ यूनिवर्सिटी के एक प्रोफ़ेसर ने वॉट्सऐप पर अपनी बीबी को तलाक दे दिया।

बता दें अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के प्रोफ़ेसर खालिद बिन यूसुफ खान पर उनकी पत्नी यासमीन खालिद ने आरोप लगाया है कि वह पिछले काफी सालों से उन्हें प्रताड़ित कर रहे हैं। और अब उसके पति ने उन्हें ट्रिपल तलाक दे दिया।

ये भी पढ़ें: योग सिखाने पर मुस्लिम लड़की को जान से मारने की धमकी, मौलानाओं ने जारी किया फतवा

यासमीन का कहना है कि अगर उन्हें न्याय नहीं मिलता तो वह एएमयू के वाइस चांसलर के घर के बाहर अपने बच्चों के साथ आत्महत्या कर लेंगी। यासमीन ने बताया कि प्रफेसर खालिद यूसुफ ने उन्हें वॉट्सऐप पर और फिर एसएमएस के जरिए तलाक दिया है।

यासमीन का कहना है कि तलाक देने के बाद मुझे घर से बाहर निकाल दिया गया है, मैं तब से न्याय के लिए इधर-उधर भटक रही हूं। लेकिन अभी तक कहीं से कोई मदद नहीं मिली है। शुक्रवार को पुलिस की मदद से मैं घर के अंदर घुस पाई।

ये भी पढ़ें: केरल में मुस्लिम लड़की के ईसाई लड़के से शादी करने पर, मस्जिद कमिटी ने किया परिवार का सामाजिक बहिष्कार

दूसरी तरफ प्रोफ़ेसर खालिद ने यासमीन के आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि मैंने उसे केवल वॉट्सऐप और एसएमएस के जरिए नहीं बल्कि दो लोगों के सामने बोल के भी तलाक दिया है। खालिद ने इस मामले में खुद को असली पीड़ित ठहराते हुए कहा कि यासमीन पिछले दो दशकों से उनका उत्पीड़न कर रही है।

प्रोफ़ेसर खालिद के मुताबिक यासमीन ने मुझसे शादी से पहले की काफी चीजें छिपाई हैं। मुझे बाद में पता चला कि वह ग्रैजुएट भी नहीं है, जैसा उसने पहले दावा किया था। मैं उसे एक तय तारीख को तीसरा तलाक भी दूंगा और मुझे कोई नहीं रोक सकता। मुझे फर्क नहीं पड़ता वह क्या कहती है।

 


POST REPLY